एसडीम ऑफिसर कैसे बने SDM Kaise bane योग्यता, आयु सीमा, सेलेरी आदि की पूरी जानकारी

एसडीएम UPSC सिविल सेवा परीक्षा और राज्य लोक सेवा आयोग की पीसीएस परीक्षा, दोनों से SDM Kaise bane बना जा सकता है। आइए जानते हैं, कि एक एसडीएम की जिम्मेदारियां क्या-क्या होती हैं, उसकी सैलरी कितनी होती है और सुविधाएं क्या मिलती हैं। किसी भी जिले के प्रशासनिक अधिकारियों की जब बात होती है, SDM Kaise bane तो डीएम के बाद सबसे अधिक एसडीएम शब्द ही सुनते होंगे। डीएम का फुल फॉर्म होता है डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट होता हैं,जबकि एसडीएम का फुल फॉर्म है सब डिविजनल मजिस्ट्रेट होता हैं, जैसा कि नाम से ही जाहिर हो रहा, एसडीएम एक सब डिवीजन लेवल का अधिकारी होता है।

एसडीएम की भर्ती यूपीएससी की सिविल सेवा परीक्षा (UPSC CSE) और राज्य लोक सेवा आयोग की परीक्षा को पास करने के बाद बना जाता हैं। आज जानेंगे कि SDM Kaise bane, उनकी जिम्मेदारियां क्या होती हैं और सैलरी कितनी मिलती है।

SDM Kaise bane

SDM Banne Ke Liye Important Fact

एसडीएम की भर्ती यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा या राज्य लोक सेवा आयोग की पीसीएस परीक्षा के जरिए होती है। अगर कोई आईएएस अधिकारी एसडीएम बनता है, तो वह अपने कैडर में ट्रेनिंग के दौरान या पहली पोस्टिंग में एसडीएम पद पर नियुक्ति की जाती है। SDM Kaise bane जबकि पीसीएस परीक्षा के जरिए एसडीएम बनने के लिए राज्य लोक सेवा आयोग की परीक्षा में टॉप रैंक होनी चाहिए। यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा या राज्य लोक सेवा आयोग की पीसीएस परीक्षा हो दोनों के लिए उम्मीदवारों को किसी भी स्ट्रीम में ग्रेजुएट होना चाहिए।

यह SDM प्रक्रिया तीन चरण में होती है- सबसे पहले प्रारंभिक परीक्षा, फिर मुख्य परीक्षा (SDM Kaise bane) और इसके बाद इंटरव्यू तीनों क्रैक कर लिए तो रैंक के अनुसार पद मिलते हैं।

SDM कौन होता है/SDM Kaise Bane

किसी भी जिले को उसकी कुशलता और प्रशासनिक सुविधा को बरकरार रखने के लिए कुछ उपखंडों में विभाजित किया जाता है। जिले के प्रत्येक को उपखंडों ध्यान रखने के लिए और उनसे नियंत्रण में रखने के लिए एसडीएम अधिकारी जिम्मेवार होता हैं।

राज्य में प्रशासनिक सेवा में एसडीएम का कार्यभार बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। SDM Kaise bane एसडीएम को राज्य सरकार के द्वारा कार्य करने के लिए कई सारे महत्वपूर्ण अधिकार और शक्तियां प्रदान की जाती है। जिसका इस्तेमाल वे राज्य को अपराध मुक्त और राज्य में शांति बनाए रखने के लिए शक्तियां प्रदान की जाती है।

SDM Full Form (एसडीएम का फुल फॉर्म)

अगर आप एसडीएम ऑफिसर बनने की सोच रहे हो तो, आपको एसडीएम की फुल फॉर्म भी पता होना बेहद जरुरी है। एसडीएम का फुल फॉर्म ‘Sub divisional magistrate’ होता है और इसी को हिंदी में हम ‘उप प्रभागीय मजिस्ट्रेट’ कहते हैं।

SDM के क्या क्या कार्य होते हैं/PSC Se SDM Kaise Bane

अगर जब राज्य और जिले में एसडीएम का पद खाली रहता है, तब राज्य और जिला के अंदर प्रशासनिक नियंत्रण नहीं रहेगा और अपराध चरम सीमा से उपर बढ़ जाता हैं। इतना ही नहीं उस राज्य और जिले में सुखून का नामोनिशान ही खत्म हो जाता हैं और लोग अनियंत्रित हो जाएंगे। एसडीएम का कार्य किसी भी राज्य और जिले को चलाने के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। चलिए आगे जानते है कि SDM Kaise bane ओर एसडीएम के अंतर्गत आपको कौन-कौन से कार्यों को करना अनिवार्य होगा और आप के क्या क्या अधिकार होंगे।

  • राज्य के प्रत्येक जिलों में और उसके उपखंड में प्रशासनिक व्यवस्था को बनाए रखने के लिए और अपराध एवं अन्य नकारात्मक गतिविधियों को रोकने के लिए जो राज्य है या फिर उस जिले को हानि पहुंचा सकती है, उसके लिए  एसडीएम ऑफिसर (SDM Kaise bane) की पुरी जिम्मेदारी होती हैं।
  • किसी भी प्रकार के लाइसेंस को जारी रखने के लिए या उसे सत्यापित करने का काम एक एसडीएम ऑफिसर ही करता है।
  • लोकसभा विधानसभा सदस्य का चुनाव करवाने का कार्य एक एसडीएम आफिसर पूरा करवाता हैं। 
  • विकासखंड स्तरीय अपराधिक प्रक्रिया संहिता 1973 सहित बहुत सारे कार्यों के लिए मजिस्ट्रेट का कार्य एक एसडीएम ऑफिसर ही करता हैं।
  • प्रशासनिक व्यवस्था को बरकरार रखने के साथ-साथ नए न्यायिक कानूनों पर अमल करने एवं उसके अनुसार जिले में कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए एक एसडीएम ऑफिसर जिम्मेदार हैं।
  • विवाह रजिस्ट्रेशन संबंधित सभी प्रकार के गतिविधियों और व्यवस्थाओं को बनाए रखने के लिए एक (SDM Kaise bane) एसडीएम अधिकारी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता हैं।
  • जनहित और राज्य हित के लिए सभी प्रकार के महत्वपूर्ण फसलों पर एसडीएम अधिकारी अपनी महत्वपूर्ण प्रक्रिया रहता है, और सरकार को सही फैसला या सही कानून व्यवस्था या नियमों का निर्माण करने के लिए वह अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता हैं।

एसडीएम को मिलने वाली सुविधाएं और सैलरी/SDM Starting Sallary

एसडीएम का वेतनमान लगभग 9,300 से 34,800 रुपये आसपास होता है। और ग्रेड पे 5400 रुपये होता है। (SDM Kaise bane) एसडीएम की शुरुआती सैलरी 56,100 रुपये से शुरू होती है। हालांकि इसमें कई भत्ते भी जुड़ते हैं। SDM Kaise bane एसडीएम पद के लिय सुविधा की बात करें तो एसडीएम को सरकारी आवास, सुरक्षाकर्मी, घरेलू काम के लिए हेल्पर यानी नौकर, सरकारी वाहन, एक टेलिफोन कनेक्शन, फ्री बिजली, आधिकारिक यात्रा के दौरान आवास की सुविधा, हायर एजुकेशन के लिए अवकाश और रिटायरमेंट के बाद पेंशन जैसी सुविधाएं मिलती हैं। इस प्रकार की सुविधा एसडीएम को मिलती है।

SDM Starting Sallary

एसडीएम से ऊपर कौन होता है

एसडीएम से ऊपर डीएम होता है। राज्य प्रशासनिक सेवा में जिला लेवल पर डीएम सबसे बड़ा अधिकारी होता है। लेकिन एसडीएम प्रमोशन पाकर डीएम बनता है। SDM Kaise bane साथ ही यह डीएम और तहसीलदारों के बीच पत्राचार का एक चैनल होता है।

SDM कैसे बने/SDM Kaise Bane in Hindi

SDM का पद हासिल करने के लिए आपको यूपीएससी में अंतर्गत होने वाली CSE एग्जाम को पास करना होता है। जब आप इस एग्जाम को पास करेंगे तो फिर आप आईएएस अधिकारी बन जायेंगे। आईएएस अधिकारी बनने के बाद आपको सबसे पहला पद एसडीएम का ही मिलता हैं।

SDM बनने के लिए कौन सी परीक्षा देनी पड़ती है

  • प्रत्येक वर्ष एसडीएम के पद के लिए परीक्षा आयोजित की जाती है और उस परीक्षा में लगभग हर साल 8 लाख से 10 लाख तक कैंडिडेट भाग लेते हैं। परंतु उनमें से 400 से लेकर 500 के बीच में ही कैंडिडेट पास कर पाते हैं।
  • आज के इस समय में कंपटीशन के दौर में आपको अपना लक्ष्य पहले से ही निर्धारित करना होगा,और आगे SDM Kaise bane का दृढ़ संकल्प लेना होगा, तब आपको 10वीं और 12वीं कक्षा में से ही इसकी तैयारी करनी प्रारंभ कर देनी है।
  • PSC के अंतर्गत CSC के एग्जाम के सिलेबस के बारे में पता करें और उस सिलेबस को रिपेयर करना शुरू कर दें और दोस्तों अगर आपके मन में दृढ़ संकल्प होगा और आप अपने इस लक्ष्य को आसानी से प्राप्त कर लेंगे। तभी आप एसडीएम परीक्षा को पास कर पाएंगे।
  • आज के समय में इंटरनेट पर सीएससी के एग्जाम को क्वालीफाई करने के लिए कई सारी बुक्स मौजूद है और इतना ही नहीं पुराने क्वेश्चन पेपर भी आप इंटरनेट पर ढूंढ सकते है। उससे आपको तैयारी करने में काफ़ी मदद मिलेंगी।

SDM banne ke Liye Qualification

एसडीएम बनने के लिए आपको किसी भी स्ट्रीम से ग्रेजुएट होना चाहिए। SDM Kaise bane इसमें मिनिमम मार्क्स की कोई रिक्वायरमेंट नहीं है। ग्रेजुएशन के फाइनल ईयर में भी आप यह एक्जाम दे सकते हैं।

  1. UPSC exam में न्यूनतम आयु सीमा 21 वर्ष होती है। अधिकतम आयु सीमा कुछ इस प्रकार है
  • सामान्य वर्ग 32 वर्ष
  • ओबीसी 35 वर्ष
  • एससी/एसटी 37 वर्ष

इसके अलावा भूतपूर्व सैनिकों और दिव्यांग व्यक्तियों को भी अधिकतम आयु सीमा मे छूट सरकार नियमानुसार दी गई है।

  • हर राज्य में पब्लिक सर्विस कमीशन भी समय-समय पर एग्जाम कंडक्ट कराता है। इसके लिए भी मिनिमम एज 21 वर्ष है और मैक्सिमम एज हर स्टेट के लिए अलगअलग हो सकती है।
  • इसकी पूरी जानकारी आपको स्टेट पीएससी की वेबसाइट पर मिल जाती है। जब एग्जाम की नोटिफिकेशन आती है तो उसमें भी क्वालीफिकेशन डीटेल में दी जाती है। आप उसे अच्छे से पढ़कर ही अप्लाई करें।

SDM Banne ka Process ( SDM banne ke liye kya kare)

दोस्तों उम्मीद है, कि आप ने एसडीएम पद के लिय ऊपर दी गई जानकारी को अवश्य पड़ा होगा। अगर आपने नहीं पढ़ा तो उसे जरूर पढ़ें उस जानकारी को पढ़ने के बाद ही इस जानकारी को आप समझ पाओगे।

  • एसडीएम (SDM Kaise bane) बनने के लिए सबसे पहले ग्रेजुएशन करें।
  • यदि आप फाइनल इयर में हैं तो भी एलिजिबल हैं।
  • इसके लिए कोई मिनिमम मार्क्स निर्धारित नहीं हैं।
  • यूपीएससी या स्टेट पीएससी एक्जाम की तैयारी शुरु करें।
  • पहले प्री एग्जाम दें।
  • उसके बाद मेन्स एग्जाम दें।
  • इसके बाद इंटरव्यू राउंड क्लीयर करें।
  • सलेक्टेड उम्मीदवारों को जॉइनिंग से पहले ट्रेनिंग दी जाती है।
  • ट्रेनिंग को पूरा करने के बाद पोस्टिंग लेकर एसडीएम के तौर पर काम शुरु करें।
  • एसडीएम बनने के लिए एज लिमिट 21-32 वर्ष होती है।
Telegram Channel Link
WhatsAppGroup Link

एसडीएम ke लिए कौन सी पढ़ाई करें?

एसडीएम बनने के लिए किसी स्पेशल फील्ड की पढ़ाई करने की कोई आवश्यकता नहीं है, लेकिन कानून या सार्वजनिक प्रशासन (Law or Public Administration) में डिग्री फायदेमंद हो सकती है। साथ ही सिविल सेवा परीक्षा पास करें

एसडीएम की 1 महीने की सैलरी कितनी होती है?

एसडीएम का शुरुआती बेसिक वेतन 56,100 रुपये होगा SDM Kaise bane (सभी भत्ते और कटौतियों को छोड़कर)। भारत में एक एसडीएम अधिकारी का अधिकतम (उच्चतम) मासिक वेतन 1,77,500 रुपये (बिना किसी पदोन्नति के) है।

12वीं के बाद एसडीएम ऑफिसर कैसे बन सकता हूं?

सब डिविजनल मजिस्ट्रेट (एसडीएम) बनने के लिए आपको किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक (किसी भी स्ट्रीम) में उत्तीर्ण होना चाहिए। उसके बाद, आपको यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा नामक परीक्षा के लिए आवेदन करना होगा। SDM Kaise bane आपको यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा के सभी चरणों में बैठना होगा।

एसडीएम से छोटा कौन होता है?

DM का मतलब जिलाधिकारी होता है, जिसे जिला कलेक्टर भी कहा जाता है. एक DM भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) में एक अधिकारी रैंक है। SDM के पद पर उनकी सेवा के लगभग 5 से 6 साल बाद SDM को DM के पद पर प्रमोट किया जाता है।

एसडीएम की उम्र कितनी है?

UPPSC PCS के संयुक्त राज्य/प्रवर अधीनस्थ सेवा परीक्षा के लिए न्यूनतम आयु सीमा 21 वर्ष और अधिकतम आयु सीमा 40 वर्ष निर्धारीत हैं।

SDM क्या काम करता है?

एसडीएम को जो ड्यूटी सौंपी जाती हैं वे 1973 criminal procedure code के तहत आती हैं। एसडीएम कई अन्य छोटी-छोटी कार्रवाइयों के तहत विभिन्न मजिस्ट्रेटी कर्तव्यों का संचालन भी करता है। यह आमतौर पर एक पीसीएस रैंकिंग अधिकारी होता है।

SDM बनने में कितना समय लगता है?

चार साल पहले जो व्यक्ति पटवारी था, उसे तीन साल में ही नायब तहसीलदार, फिर तहसीलदार के पद पर पदोन्नत कर दिया गया और अब इस महीने एसडीएम पद पर पदोन्नत करने के लिए होने वाली विभागीय पदोन्नति समिति (डीपीसी) के लिए पात्रता सूची में वरिष्ठता मिल सकती हैं।

can sdm become dm?

एक राज्य सिविल सेवा (PCS) या अन्य राज्य स्तरीय प्रशासनिक अधिकारी को भी राज्य सिविल सेवाओं में अपने करियर के 20 से 25 साल के बाद SDM और कभी-कभी DM के पद पर प्रमोट किया जा सकता है।

12 ke baad sdm kaise bane?

अगर आप 12वी बाद SDM बनना चाहते हैं तो इसके लिए दो तरीके हैं,जो कि एक यूपीएससी परीक्षा एवं दूसरा राज्य स्तरीय पीएससी परीक्षा इन दोनों के लिए प्रत्येक वर्ष लाखों विद्यार्थियों एसडीएम बनने के लिए तैयारी करते हैं।

शेयर करें-

Leave a Comment